क्या आपको मालूम है भारत के इस राज्य में नहीं है कोई रेलवे स्टेशन, इसका नाम?

State With No Railway Line: एक ओर जहां भारतीय रेलवे इतनी संपन्न और इतनी सुविधा युक्त नजर आती है। तो वहीं भारत में एक ऐसा भी राज्य है जहां रेलवे की कोई लाइन नहीं है।

Photo of author

Reported by Pankaj Bhatt

Published on

भारत के पास विश्व भर में चौथे नंबर का रेलवे नेटवर्क है और हमारे देश से आगे सिर्फ अमेरिका, चीन एवं रूस ही है। इंडियन रेलवे देश भर में परिवहन सेक्टर की रीढ़ भी कही जाती है। प्रत्येक दिन तकरीबन 2.5 करोड़ यात्रियों को रेलवे उनके स्थान पर पहुंचा रहा है। प्रतिवर्ष लगभग 8 अरब से भी अधिक यात्रियों को रेलवे की सेवा का लाभ मिल रहा है। साथ ही रेल विभाग अपने नेटवर्क को देश भर में बढ़ाने में लगा है।

State With No Railway Line

बिना रेल स्टेशन वाला भारतीय राज्य

इन सभी उपलब्धियों एवं बढ़ते रेलवे के नेटवर्क के बीच भारत में एक राज्य ऐसा भी है जिसमें कोई रेल नहीं जाती है। साथ ही इस प्रदेश में न ही कोई रेल लाइन है और न ही कोई रेल स्टेशन। यह राज्य सिर्फ नेशनल हाईवे-10 की मदद से देश से जुड़ता है। यहां बात हो रही है उत्तरी पूर्वी प्रदेश “सिक्किम” की। देश के स्वतंत्र होने के सात दशकों के बाद भी इस राज्य में रेल सेवा नहीं पहुंच पाई है।

SuperSurvey

पीएम मोदी ने रेंगपो स्टेशन प्रोजेक्ट शुरू किया

पीएम नरेंद्र मोदी ने साल 2014 के फरवरी माह में ही सिक्किम में पहले रेल स्टेशन रेंगपो के प्रोजेक्ट को शुरू किया है। सामरिक वजह से ही ये रेल स्टेशन बहुत अहम हो जाता है। इस रेल स्टेशन के बनते ही गंगटोक से नाथूलाल बाउंड्री से होकर सिक्किम-चीन के बार्डर तक एक सशक्त रेल नेटवर्क की प्राप्ति हो जाएगी।

पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत सरकार रेल नेटवर्क को काफी जोरों से फैलाने में लगी है। अब इस क्रम में सिक्किम का रंगपो रेल स्टेशन भी बनाया जा रहा है। अभी तो सिक्किम के लोगों को ज्यादा दूर जाने में पश्चिम बंगाल के न्यू जलपाईगुड़ी एवं सिलीगुड़ी आकर रेल पकड़नी पड़ती है। यहां जान ले कि सिक्किम एस न्यू जलपाईगुड़ी 187 किमी एवं सिलीगुड़ी 146 किमी दूर है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

14 सुरंगों से होकर जाएगी रेल लाइन

साल 2022 में सिक्किम की इस रेल लाइन प्रोजेक्ट को स्वीकृति मिली थी। प्रोजेक्ट के अंतर्गत सिवोक एवं रंगपो में मध्य करीबन 44.96 किमी की रेल लाइन को बिछने का काम हो रहा है और इसकी 38.67 किमी दूरी की रेल लाइन सुरंग से होकर जाएगी। साथ ही 2.25 किमी दूरी की रेल लाइन पुल के होकर जाने वाली है। इसी प्रकार से 4.79 किमी भाग का स्टेशन यार्ड की कटिंग-फीलिंग में रहेगा।

यह भी देखेंUPSC आर्मी विंग भर्ती 2024: 12वीं पास के लिए आवेदन का मौका, 4 जून है अंतिम तिथि

UPSC आर्मी विंग भर्ती 2024: 12वीं पास के लिए आवेदन का मौका, 4 जून है अंतिम तिथि

सिवोक एवं रंगपो के मध्य की रेल लाईन 14 टनल से होकर जाएगी। इसमें से सर्वाधिक लंबाई की सुरंग 5.30 किमी की एवं सर्वाधिक चोटी सुरंग 538 मीटर की रहेगी। इस रेल लाईन में सिवोक एवं रंगपो समेत 5 स्टेशन बनेंगे। इसमें से 4 स्टेशन सिवोक, रियांग, मेली एवं रंगपो खुले में होंगे एवं तिस्सा मार्केट का रेल स्टेशन अंडरग्राउंड रहेगा।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

यह भी पढ़े:- इंदिरा गांधी एयरपोर्ट पर निकली 1 हजार से ज्यादा पद पर भर्ती, कल है लास्ट डेट, जल्दी करें

सिक्किम में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा

अब सिवोक से बंगाल के रंगपो तक रेल सेवा के कारण राजधानी गंगटोक तक आ पाना सरल होगा। यहां ध्यान दें कि रंगपो का एक भाग बंगाल एवं दूसरा सिक्किम में पड़ता है और रंगपो नदी ही दोनो के बीच भिन्नता लाती है। रंगपो एवं गंगटोक में रोड मार्ग में 2 घंटों का समय लगता है। इस प्रकार से सिक्किम जैसे सुंदर प्रदेश में टूरिज्म सेक्टर को काफी फायदा मिल जायेगा।

यह भी देखेंCBSE 10th Marks Verification: 500 रुपये में बदल जाएगा रिजल्ट, आवेदन शुरू, अभी भरें फॉर्म

CBSE 10th Marks Verification: 500 रुपये में बदल जाएगा रिजल्ट, आवेदन शुरू, अभी भरें फॉर्म

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें